Mahmud Ghaznavi in Hindi : महमूद गजनवी का भारत पर 17 बार आक्रमण

कॉमेन्‍ट करें और जीतें एक पेन डाइव Click Here

Mahmud Ghaznavi in Hindi : महमूद गजनवी का भारत पर 17 बार आक्रमण Biography of Mahmud of Ghazni, the Muslim ruler who between 997 and 1030 CE mohammad ghaznavi history in hindi
■ महमूद गजनवी, गजनी का शासक था जिसने 971 से 1030 AD तक शासन किया | वह सुबक्त्गीन का पुत्र था | भारत की  धन-संपत्ति से आकर्षित होकर, गजनवी ने भारत पर कई बार आक्रमण किए | वास्तव में गजनवी ने भारत पर 17 बार आक्रमण किया | उसके आक्रमण का मुख्य मकसद भारत की संपत्ति को लूटना था |■ 

प्रथम आक्रमण (1001 ई.)- महमूद ग़ज़नवी ने अपना पहला आक्रमण 1001 ई. में किया तथा पेशावर के कुछ भागो पर अधिकार करके अपने देश लौट गया।

दूसरा आक्रमण (1001-1002 ई. - अपने दूसरे अभियान के अन्तर्गत महमूद ग़ज़नवी ने सीमांत प्रदेशों के शाही राजा जयपाल के विरुद्ध युद्ध किया। जिसमे जयपाल की पराजय हुई और उसकी राजधानी बैहिन्द पर अधिकार कर लिया। जयपाल इस पराजय के अपमान को सहन नहीं कर सका और उसने आग में जलकर आत्मदाह कर लिया।

तीसरा आक्रमण (1004 ई.)- महमूद ग़ज़नवी ने उच्छ के शासक वाजिरा को दण्डित करने के लिए आक्रमण किया। महमूद के भय के कारण वाजिरा सिन्धु नदी के किनारे जंगल में शरण लेने को भागा और अन्त में उसने आत्महत्या कर ली।

चौथा आक्रमण (1005 ई.)- 1005 ई. में महमूद ग़ज़नवी ने मुल्तान के शासक दाऊद के विरुद्ध मार्च किया। इस आक्रमण के दौरान उसने भटिण्डा के शासक आनन्दपाल को पराजित किया और बाद में दाऊद को पराजित कर उसे अधीनता स्वीकार करने के लिए बाध्य कर दिया।

पाँचवा आक्रमण (1007 ई.)- पंजाब में ओहिन्द पर महमूद ग़ज़नवी ने जयपाल के पौत्र सुखपाल को नियुक्त किया था। सुखपाल ने इस्लाम धर्म ग्रहण कर लिया था और उसे नौशाशाह कहा जाने लगा था। 1007 ई. में सुखपाल ने अपनी स्वतंत्रता की घोषणा कर दी थी। महमूद ग़ज़नवी ने ओहिन्द पर आक्रमण किया और नौशाशाह को बन्दी बना लिया गया।
  • शासन : 997-1030
  • राज तिलक :  1002
  • जन्म :  2 नवम्बर 971 (लगभग)
  • जन्मस्थान -:  ग़ज़नी, अफगानिस्तान
  • मृत्यु : 30 अप्रैल 1030 (उम्र 59 वर्ष में)
  • मृत्यु स्थान : ग़ज़नी, अफगानिस्तान
  • पूर्वाधिकारी : सुबुक्तिगिन
  • पिता : सेबुक्तिगिन
  • धर्म : सुन्नी इस्लाम
छठा आक्रमण (1008 ई.)- महमूद गजनी के 1008 ई. के छठे आक्रमण में नगरकोट के विरुद्ध हमले को मूर्तिवाद के विरुद्ध पहली महत्वपूर्ण जीत बताई जाती है।

सातवाँ आक्रमण (1009 ई.)- इस आक्रमण के अन्तर्गत महमूद ग़ज़नवी ने अलवर राज्य के नारायणपुर पर विजय प्राप्त की।

आठवाँ आक्रमण (1010 ई.)- महमूद का आठवां आक्रमण मुल्तान पर था। वहां के शासक दाऊद को पराजित कर उसने मुल्तान के शासन को सदा के लिए अपने अधीन कर लिया।

नौवा आक्रमण (1013 ई.)- अपने नवे अभियान के अन्तर्गत महमूद ग़ज़नवी ने थानेश्वर पर आक्रमण किया।

दसवाँ आक्रमण (1013 ई.)- महमूद ग़ज़नवी ने अपना दसवां आक्रमण नन्दशाह पर किया। हिन्दू शाही शासक आनन्दपाल ने नन्दशाह को अपनी नयी राजधानी बनाया। वहां का शासक त्रिलोचन पाल था। त्रिलोचनपाल ने वहाँ से भाग कर कश्मीर में शरण लिया। तुर्को ने नन्दशाह में लूटपाट की।
ग्यारहवाँ आक्रमण (1015 ई.)- महमूद का यह आक्रमण त्रिलोचनपाल के पुत्र भीमपाल के विरुद्ध था, जो कश्मीर पर शासन कर रहा था। युद्ध में भीमपाल पराजित हुआ।

बारहवाँ आक्रमण (1018 ई.)- अपने बारहवें अभियान में महमूद ग़ज़नवी ने कन्नौज पर आक्रमण किया। उसने बुलंदशहर के शासक हरदत्त को पराजित किया। उसने महाबन के शासक बुलाचंद पर भी आक्रमण किया। 1019 ई. में उसने पुनः कन्नौज पर आक्रमण किया। वहाँ के शासक राज्यपाल ने बिना युद्ध किए ही आत्मसमर्पण कर दिया। राज्यपाल द्धारा इस आत्मसमर्पण से कालिंजर का चंदेल शासक क्रोधित हो गया। उसने ग्वालियर के शासक के साथ संधि कर कन्नौज पर आक्रमण कर दिया और राज्यपाल को मार डाला।

तेरहवाँ आक्रमण (1020 ई.)- महमूद का तेरहवाँ आक्रमण 1020 ई. में हुआ था। इस अभियान में उसने बारी, बुंदेलखण्ड, किरात तथा लोहकोट आदि को जीत लिया।

चौदहवाँ आक्रमण (1021 ई.)- अपने चौदहवें आक्रमण के दौरान महमूद ने ग्वालियर तथा कालिंजर पर आक्रमण किया। कालिंजर के शासक गोण्डा ने विवश होकर संधि कर ली।

पन्द्रहवाँ आक्रमण (1024 ई.)- इस अभियान में महमूद ग़ज़नवी ने लोदोर्ग (जैसलमेर), चिकलोदर (गुजरात), तथा अन्हिलवाड़ (गुजरात) पर विजय स्थापित की।

सोलहवाँ आक्रमण (1025 ई.)- इस 16वें अभियान में महमूद ग़ज़नवी ने सोमनाथ को अपना निशाना बनाया। उसके सभी अभियानों में यह अभियान सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण था। सोमनाथ पर विजय प्राप्त करने के बाद उसने वहाँ के प्रसिद्ध मंदिरों को तोड़ दिया तथा अपार धन प्राप्त किया। यह मंदिर गुजरात में समुद्र तट पर अपनी अपार संपत्ति के लिए प्रसिद्ध था। इस मंदिर को लूटते समय महमूद ने लगभग 50,000 ब्राह्मणों एवं हिन्दुओं का कत्ल कर दिया। पंजाब के बाहर किया गया महमूद का यह अंतिम आक्रमण था।

सत्रहवाँ आक्रमण (1027 ई.)- यह महमूद ग़ज़नवी का अन्तिम आक्रमण था। यह आक्रमण सिंध और मुल्तान के तटवर्ती क्षेत्रों के जाटों के विरुद्ध था। इसमें जाट पराजित हुए।
  1. गजनी ने भाटिया पर 1005 AD में आक्रमण किया |
  2. गजनी ने मुल्तान पर 1006 AD में हमला किया | इसी दौरान आनंदपाल ने उस पर हमला किया |
  3. गजनी के महमूद ने भटिंडा के शासक सुखपाल पर 1007 AD  में हमला किया और उसे  कुचल दिया |
  4. गजनी ने पंजाब के पहाड़ियों में नगरकोट पर 1011 AD में हमला किया |
  5. महमूद ने, आनंदपाल के शाही राज्य पर आक्रमण किया और उसे वैहिंद के युद्ध में, पेशावर के निकट हिन्द शाही  राजधानी में 1013 AD में हरा दिया |
  6. गजनी  के महमूद ने  1014 AD में थानेसर पर कब्जा कर लिया |
  7. गजनी के महमूद ने 1015 AD में कश्मीर पर आक्रमण किया |
  8. इसने 1018 AD  में मथुरा पर आक्रमण किया और शासकों के गठबंधन  को हरा दिया, जिसमे चन्द्र पाल नाम का शासक भी था |
  9. महमूद ने 1021 AD में कनौज के राजा चन्देल्ला गौड़ को हराकर, कनौज को जीत लिया |
  10. महमूद  गजनी के द्वारा ग्वालियर पर 1023 AD में हमला हुआ और उस पर कब्जा कर लिया  |
  11. महमूद गजनी ने 1025 AD में सोमनाथ मंदिर पर हमला किया ताकि मंदिर के अंदर की धन संपत्ति को लूट कर एकत्रित कर सके |
  12. अपने आखिरी आक्रमण के दौरान मलेरिया के कारण महमूद गजनवी की 1030 AD में मृत्यु हो गई |

Mahmud Ghaznavi in Hindi : महमूद गजनवी का भारत पर 17 बार आक्रमण Searches related to mohammad ghaznavi mohammad ghaznavi history in hindi muhammad ghori 

mahamood gajanavee, gajanee kaa raajaa thaa jisane 971 se 1030 iisvee tak shaasan kaary kiyaa thaa. Unhonne usake pitaa kaa naam subuktgeen thaa. Usane bhaarat par aakramaṇa kiyaa aur raajapoot shaasak aanndapaal aur usake chhah raajapoot sahayogiyon ujjain, gvaaliyar, dillee, kaalinjar, ajamer aur kannauj, jinhen raajapoot mahaasngh ke roop men jaanaa jaataa hai ko paraajit kiyaa. 1071 men hindoo shaahee raajaa_on kaa raajy samaapt ho gayaa. Is vijay ke pashchaat vah pnjaab, sindh aur multaan ke nirvivaad shaasak ke roop men sthaapit ho gayaa. Usakaa  agalaa abhiyaan naagarakoṭ thaa  jisakee looṭ ke lie usane 1009 iisvee men hamalaa kiyaa. Thaa. Usake baad, usane 1011 iisvee  men thaaneshvar par hamalaa kiyaa aur meraṭh, kannauj aur mathuraa men bhaaree looṭ machaa_ii tatpashchaat vah badee dhanaraashi ke saath apane raajy men vaapas aa gayaa. Mahamood gajanavee ne 1021 iisvee men trilochanapaal  par hamalaa kiyaa aur use haraayaa. Trilochanapaal antim shaahee raajaa  jise mahamood ke dvaaraa ajamer ko palaayan karane ke lie majaboor kiyaa gayaa thaa. Mahamood gajanavee ne bhaarat par ek baar fir 1024 iisvee men  hamalaa kiyaa thaa. 
Ajamer, gvaaliyar aur kaalinjar  par chhaapaa maarane ke alaavaa  vah somanaath mndir ko bhee durdamaneey tareeke se  looṭaa aur ise naṣṭ kar diyaa. Kinvadntiyon ke anusaar somanaath ke shivaling ke bhagnaavasheṣon ko le jaakar usane gazanee ke jaamaa masjid kaa hissaa banavaayaa. Mahamood ke somanaath aakramaṇa ke dauraan chaaluky vnsh kaa bheem pratham us samay kaaṭhiyaavaad kaa shaasak thaa. Apane antim aakramaṇa ke dauraan  maleriyaa ke kaaraṇa 1030 iisavee men usakaa nidhan ho gayaa. Phairadausee mahamood ke darabaar men raaj kavi thaa. Usake upar iiraanee deshaprem kaa itanaa ubhaar huaa ki vah svayn ko praacheen iiraanee kinvadantiyon men charchit raajaa 'apharaasiyaab' kaa vnshaj hone kaa daavaa kiyaa karataa thaa. Mahamood gajanavee ne bhaarat par hamalaa kyon kiyaa? Usake bhaarat par aakramaṇa kaa pramukh kaaraṇa bhaarat kee vishaal dhan-sampadaa thee. In tathyon ne use bhaarat kee taraf aakarṣit karane ko majaboor kiyaa. Aur snbhav hai kee inhee kaaraṇaon kee vajah se vah bhaarat par baar baar aakramaṇa karataa rahaa. Usane moortibhnjak upanaam  ko arjit karane ke lie  somanaath, kaangadaa, mathuraa aur jvaalaamukhee ke mndiron ko naṣṭ kiyaa. Bhaarat par gajanavee ke aakramaṇa kaa prabhaav
bhaarat par usake aakramaṇa kaa koii gaharaa raajaneetik prabhaav naheen hai. Muhammad gazanavee ke aakramaṇa ke alaavaa yah bhee snbhaavanaa jataa_ii jaatee hai kee raajapoot raajaa_on ke raajaneetik ekataa ke abhaav ne bhaviṣy men bhee any aakramaṇaon ko aamntrit kiyaa.

5 Responses to "Mahmud Ghaznavi in Hindi : महमूद गजनवी का भारत पर 17 बार आक्रमण"

  1. गजनवी के अाकृमण के समय हम इतने कमजोर थे क्या?

    ReplyDelete
    Replies
    1. us time hibdu hi 1 bhi the koi rajput kii jaat koi yadav sab apni 2 chodhar k chakkr me the

      Delete
    2. hindu 1 nhi the sab n choddhar chiye thi

      Delete