Rajasthan GK in Hindi, Rajasthan Study Material pdf Notes 2016-17

Rajasthan GK in Hindi, Rajasthan Study Material pdf Notes 2016-17 rajasthan gk in hindi question rajasthan gk in hindi online test rajasthan gk in hindi book

प्रश्न 1. डिंगल
उत्तर गुर्जरीअपभ्रंश से उदधृत मारवाड़ी बोली का परिष्कृत साहित्यिक रूप; चारणों की बोली।

प्रश्न2. वंश भास्कर
उत्तर बूंदीराज्य के विस्तृत ऐतिहासिक वर्णन, मराठा आक्रमण आदि का वर्णन करता हुआ सूर्यमल्ल मिश्रण द्वारा हाड़ौती मंे रचित काव्य।
 
प्रश्न3. कांकवाड़ी दुर्ग की विशेषताएं।
उत्तर सरिस्कामंे स्थित यह दुर्ग अपनी अवस्थिति, सुदृढ़ कंगूरेदार प्राचीर एवं गोलाकार बुर्जों के कारण प्रसिद्ध है।
 
प्रश्न4. दयाबाई
उत्तर चरणदासीसम्प्रदाय की अनुयायी और चरणदासजी की शिष्या, जिन्होंने 'विनयमिका' एवं 'दयाबोध' ग्रंथों की रचना की।
 
प्रश्न5. रास
उत्तर जैनकवियों द्वारा विकसित नृत्य, ज्ञान एवं अभिनय तीनों कलाओं से युक्त साहित्य की एक विधा।
 
प्रश्न. ओल्यू
उत्तर दाम्पत्यप्रेम में स्नेह पूर्ण विलाप युक्त लयबद्ध गीत, जिसमें पति के लिए भंवरजी, कंवरजी तथा पत्नी के िलए गोरी, मरवण विशेषण का प्रयोग।
 
प्रश्न 7. राजस्थान राज्य अभिलेखागार
उत्तर मुगलकालसे वर्तमान तक के राज्य के दीर्घकालीन ऐतिहासिक एवं प्रशासनिक महत्व के अभिलेखांे को व्यवस्थित/संरक्षित करने के उद्देश्य से बीकानेर में स्थापित अभिलेखागार। इसकी शाखाएं अन्य सभी संभागों एवं अलवर जिले में भी स्थित हैं। इसके द्वारा राजस्थान स्वतंत्रता आंदोलन की पाण्डुलिपियां तैयार की गई हैं।
 
प्रश्न8. मेवाड़ चित्रकला शैली
उत्तर राजस्थानीचित्रकला शैली का मौलिक स्वरूप जिसके विकास में कुंभा, जगतसिंह, राजसिंह एवं अमरसिंह का विशेष योगदान रहा है। लाल एवं पीले रंग के सर्वाधिक प्रयोग के साथ कदम्ब वृक्ष, हाथी एवं चकोर का चित्रण प्रधान है। कलीला दमना जैसी प्रसिद्ध कृतियां इसी शैली में हैं। प्रसिद्ध कलाकार-साहिबदीन, मनोहर, कृपाराम, जीवा आदि हैं।
 
प्रश्न9. कालबेलिया जाति के नृत्य
उत्तर कालबेलियाजाति की नृत्यांगनाएं शरीर में लोच के दक्षतापूर्ण प्रदर्शन के लिए प्रसिद्ध हैं। इनके प्रमुख नृत्य बागड़िया, शंकरिया, इंडोणी, और पाणिहारी हैं। इसी जाति की प्रसिद्ध नृत्यांगना गुलाबो सपेरा को 2016 में पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
 
प्रश्न10. निम्बार्क सम्प्रदाय
उत्तर वेदांतपरिजात भाष्य के रचयिता और द्वैताद्वैत मत के समर्थक निम्बार्काचार्य इस सम्प्रदाय के प्रर्वतक हैं। इसका प्रमुख केन्द्र वृन्दावन लेकिन राजस्थान में प्रमुख पीठ सलेमाबाद (अजमेर) एवं अन्यपीठ उदयपुर में स्थित है। इस सम्प्रदाय के आराध्य देव राधा-कृष्ण हैं।
 
प्रश्न11. राजस्थानी इतिहास में पुरातात्विक सिक्के
उत्तर पुरातात्विकस्रोत की दृष्टि से सिक्के महत्वपूर्ण स्रोत हैं। सिक्कों के द्वारा तत्कालीन शासकों का वंशक्रम, शासन व्यवस्था, धार्मिक स्थिति आदि की जानकारी प्राप्त होती है। मेवाड़ में 7वीं सदी में पारूथद्रम चांदी के सिक्के, बीकानेर में गजशाही; जोधपुर में गधिया, विजयशाही; कोटा में गुमानशाही; जैसलमेर में अखेशाही आदि प्रमुख सिक्के प्रचलित थे।
 
प्रश्न12. बागौर सभ्यता
उत्तर भीलवाड़ाजिले में कोठारी नदी के किनारे अवस्थित पुरातात्विक स्थल जहां डाॅ. वीरेन्द्र नाथ मिश्र के नेतृत्व में हुए उत्खनन से उत्तर पाषाण कालीन उपकरण, भारत में पशुपालन के प्राचीनतम साक्ष्य एवं कृषि कार्यों के बारे में जानकारी प्राप्त हुई है। यहां से आवास बनाने में पत्थर के साथ ईंटों का प्रयोग एवं मृत शरीर को उत्तर-दक्षिण दिशा में लिटाए जाने के साक्ष्य भी मिले हैं। 

Rajasthan GK in Hindi, Rajasthan Study Material pdf Notes 2016-17 Rajasthan GK for RPSC exam | Rajasthan GK in Hindi

0 Response to "Rajasthan GK in Hindi, Rajasthan Study Material pdf Notes 2016-17"

Post a Comment